” एक पैग पटियाला और युनिभर्सिटी कैम्पस ”

नौकरी जोइन करने मैं  अभी दो महीने और बाँकी थे|  
सुबह का नाश्ता करके, छ्त पर  राकेश भ्इया के साथ जा बैठा|भैया अपनी कविता पुरी करने में लगे थे|  मेरी नजर पास रखी किताब पर गयी|

किताब का नाम पढ कर कुछ अजीब सा लगा| नाम था –” एक पैग पटियाला और युनिभर्सिटी कैम्पस “|

अब ये पैग-पटियाला कुछ समझ में नहीं आया|
सोचा क्युँ ना पढ कर देखी जाये|

दिल्ली युनिभर्सीति में साथ पढने वाले कुछ मित्रगण अपने एक मित्र के रूम पर बीर की पार्टी रखते है|
मित्र-मँडलि में तीन चार लडके और तीन लड्किया है|
बातो-बातो में किन्ही एक ऐसे सखस की चर्चा होती है, जो की उनमें से एक के प्रेणास्रोत हैं| जिन्होने सबो की मदद् की थी युनिभर्सिती में|
पुरी कहानी उसी सख्श के दिल्ली युनिभर्सिती में बीते पलो को सजोय है| कहानी का अंत थोडा अलग है, पर दिल को छुता है|

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s